बीमा प्रीमियम पर सेवा कर में वृद्धि

वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली द्वारा बजट 2016 में सेवा कर पर एक नये उपकर कृषि कल्याण सेस का प्रस्ताव रखा है। जिससे सेवा कर के दायरे मे आने वाली समस्त सेवाओं पर लागु किया जायेगा, जिसमें बीमा क्षेत्र भी शामिल है।  नया कृषि कल्याण उपकर  .5% दर से लगाया जाएगा। इससे वर्तमान सेवा कर की दर 14.5% से 15% हो जायेगी।

पहले समस्त सेवाएँ जिसमें बीमा सेवाएँ भी शामिल है पर 12.36% की दर से सेवा कर लगता था। जिसे बजट 2015 में बढा कर 14% कर दिया गया था। पुन: नवम्बर 2015 में सेवा कर पर एक नया उपकर स्वच्छ भारत सेस .5% की दर से लगाया गया जिससे सेवा कर की दर 14% से बढ कर 14.50% हो गयी।

कृषि कल्याण उपकर के बाद सेवा कर की नई दरें:

बीमा योजनाएँ विभिन्न प्रकार की होती हैं जैसे, टर्म इंश्योरेंस एवं अन्य बचत बीमा योजनाएँ जैसे बन्दोबस्ती योजनाएँ एवं मनी बैक योजनाएँ। इन भिन्न योजनाओं के कारण सेवाकर की दर भी इन  योजनाओं पर अलग अलग होती है।   विभिन्न बीमा योजनाओं पर कृषि कल्याण उपकर के बाद सेवाकर की दर निम्नानुसार है:

बीमा प्रीमियम पर सेवा कर की दर

नये सेवाकर की दर कबसे होगी लागू?

नये सेवाकर की दर वित्त मंत्रालय द्वारा अधिसूचना जारी करने की पश्चात से लागु हो जायेगी, जो की सामान्यत:  01/06/2016 से लागू होती है। समस्त बीमा कम्पनियाँ इस सम्बन्ध में अलग परिपत्र निकालेगीं एवं विभिन्न माध्यमों से अपने बीमा धारकों को सूचित करेंगीं।

क्या नया सेवाकर सभी पॉलिसियों पर लागु होगा?

नही, नया सेवाकर समस्त पॉलिसियों पर लागु नही होगा। 01/01/2014 से पहले जारी की गयी पॉलिसीयाँ जिन पर अलग से सेवाकर नही लिया जाता है उन पॉलिसियों में नये उपकर का कोई प्रभाव नही होगा। परंतु 01/01/2014 के बाद जारी की गयी पॉलिसियाँ जिनमें सेवाकर बीमा धारक को प्रीमियम के अतिरिक्त देय होता है, उन समस्त पॉलिसियों पर नयी दर से सेवाकर लागू होगा।

Be the first to comment on "बीमा प्रीमियम पर सेवा कर में वृद्धि"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*